अब मांझी बोले, ‘मुझे चींटी समझने की गलती न करें पासवान’

पटना: बिहार में राष्ट्रीय लोकत्रांतिक गठबंधन (एनडीए) में सब कुछ इन दिनों ठीक नहीं चल रहा हैं। सोमवार को इसका एक ताजा उदाहरण उस समय देखने को मिला जब पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने तीखे शब्‍दों में केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान पर हमला बोला। मांझी ने अपने चुनाव क्षेत्र मखदुमपुर में पत्रकारों के सवालों के जवाब में पहली बार पासवान पर सीधा हमला बोला।

दरअसल, मांझी हर मौके पर पासवान द्वारा उन्हें नीचा दिखाए जाने पर न केवल परेशान थे बल्कि उन्होंने मन बना लिया कि अब पासवान से सार्वजनिक रूप से दो-दो हाथ कर हिसाब बराबर करेंगे। पिछले दिनों एक चैनल के कार्यक्रम में भाग लेते हुए रामविलास पासवान ने कहा था कि मांझी राज्य स्‍तर नेता हैं जबकि अपने बारे में उन्होंने कहा कि वो राष्ट्रीय स्‍तर के दलित नेता हैं।

यही नहीं पासवान ने मांझी पर व्‍यंग्‍य करते हुए कहा कि वो राष्ट्रीय लोकत्रांतिक गठबंधन में नए-नए आए हैं और उन्हें अभी साबित करना बाकी है कि वो अपनी जाति मांझी का वोट ट्रासंफर करा पाते हैं कि नहीं। इसी के जवाब में मांझी ने अपनी भड़ास निकालते हुए कहा कि पासवान को केवल अपने परिवार की चिंता रहती है न कि दलितों की और वो उन्हें चींटी समझने की गलती न करें क्योंकि चींटी भी हाथी को परास्त कर सकती है।

मांझी ने पासवान से पूछा कि आखिर उनकी पार्टी में हर पद पर उनके बेटे, भाई या दामाद ही क्यों आसीन हैं। निश्चित रूप से मांझी के इस हमले का पासवान को अंदाजा नहीं था और सोमवार को जब उनकी प्रतिक्रिया पूछी गयी तो उन्होंने सवालों को टाल दिया।

लेकिन माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में अगर बीजेपी के नेताओं ने हस्तक्षेप नहीं किया तो इन दोनों दलित नेताओं के बीच वकयुद्ध और तेज हो सकता है। माना जा रहा है कि मांझी, पासवान और उनके बेटे चिराग पासवान के उन बयानों से भी नाराज चल रहे हैं जिसमें चिराग ने मांझी के पार्टी के कई नेताओं को गठबंधन से टिकट न देने की वकालत की है।

 

You must be logged in to post a comment Login