हरिद्वार, ऋषिकेश में गंगा किनारे प्लास्टिक बैन

नैशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने हरिद्वार और ऋषिकेश जैसे तीर्थस्थलों पर गंगा किनारे प्लास्टिक के इस्तेमाल पर पूरी तरह से रोक लगा दी है। इसका उल्लंघन करने वालों से जुर्माने को तौर पर 5 हजार रुपये वसूला जाएगा। ट्रिब्यूनल ने गंगा नदी की सफाई के प्रति लापरवाही बरतने पर संबंधित अथॉरिटीज को कड़ी फटकार लगाई है। ट्रिब्यूनल ने हरिद्वार नगर निगम, पुलिस और स्टेट पल्यूशन कंट्रोल बोर्ड के अफसरों को गंगा के डूब क्षेत्र और घाटों का दौरा कर यह सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि यहां किसी भी तरह प्लास्टिक का इस्तेमाल नहीं हो रहा हो।

एनजीटी अध्यक्ष जस्टिस स्वतंत्र कुमार की अगुवाई वाली बेंच ने इस संबंध में कहा है कि हरिद्वार और ऋषिकेश के पूरे इलाके में प्लास्टिक के इस्तेमाल पर बैन होगा। खासतौर पर गंगा नदी के किनारे और इसके डूब वाले इलाकों पर प्लास्टिक के किसी भी तरह के इस्तेमाल पर पाबंदी होगी। प्लास्टिक का इस्तेमाल न तो भोजन परोसने के लिए, पैकिंग के लिए और न ही सामान ले जाने के लिए होगा।

हर मामले में नियम का उल्लंघन करने वालों को 5 हजार रुपये जुर्माना देना होगा। दुकानदार किसी भी तरह की चीज को प्लास्टिक बैग में न बेचें। निगम सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है कि किसी भी परिस्थित में घाटों पर म्युनिसिपल सॉलिड वेस्ट या एनिमल वेस्ट न फेंका जाए। निगम, पुलिस, पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड आज से एक हफ्ते के भीतर दुकानों के पास उचित साइज के डस्टबिन रखवा दें।

 

You must be logged in to post a comment Login