उपराष्ट्रपति ने कायम की गजब की मिसाल

नई दिल्ली
अपनी तरह के अनोखे रेकॉर्ड में उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी के कार्यालय ने उस आरटीआई आवेदन का 2 दिनों में जवाब दे दिया, जिसमें पिछले रविवार को योग दिवस कार्यक्रम में उनकी अनुपस्थिति के कारणों के संबंध में जानकारी मांगी गई थी। जवाब में कहा गया कि उपराष्ट्रपति को इस कार्यक्रम में आमंत्रित नहीं किया गया था। आरटीआई आवेदन पर 30 दिनों में जवाब देने की उम्मीद की जाती है, लेकिन जवाब भेजने में ऐसी तत्परता शायद ही कभी दिखती है।

मल्लापुरम के पारसनाथ सिंह की ओर से 22 जून को आरटीआई के तहत मांगी गई सूचना का जवाब देते हुए उपराष्ट्रपति कार्यालय ने 24 जून के अपने पत्र में कहा, ‘राजपथ पर 21 जून को आयोजित योग दिवस कार्यक्रम के लिए उन्हें कोई आमंत्रण नहीं मिला था।’ याचिकाकर्ता ने कहा कि आरटीआई आवेदन भेजने के 4 दिन के अंदर ही उन्हें जवाब मिल गया। पूर्व मुख्य सूचना आयुक्त सत्यानंद मिश्र ने कहा कि अन्य सार्वजनिक अधिकारियों को उपराष्ट्रपति कार्यालय से सबक लेना चाहिए और समय के अंदर आरटीआई आवेदनों का जवाब देना चाहिए।

पूर्व सूचना आयुक्त शैलेश गांधी ने भी कहा कि राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और प्रधानमंत्री जैसे शीर्ष कार्यालयों को अन्य सार्वजनिक प्रतिष्ठानों के लिए उदाहरण कायम करना चाहिए। योग दिवस कार्यक्रम से हामिद अंसारी की अनुपस्थिति पर राम माधव ने सवाल उठाया था। बाद में आयुष मंत्रालय में राज्य मंत्री श्रीपद नाइक ने कहा कि अंसारी को आमंत्रित नहीं किया गया था क्योंकि राजपथ के कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुख्य अतिथि थे और उपराष्ट्रपति को आमंत्रित करना प्रोटोकॉल का उल्लंघन होता।

You must be logged in to post a comment Login